गोरखपुर में बाढ़ से बर्बादी:-शहर में घुसा पानी


बाढ़ का प्रकोप: गोरखपुर में आज सुबह टूटे 2 बांध,400 गांव में घुसा पानी,-

गोरखपुर में बाढ़ का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। रोजना कोई एक बांध टूट रहा है। रविवार सुबह झंगहा-बोहरा बांध और बिनहा रिंग बांध भी टूट गया। इससे करीब 400 गांव में पानी घुस गया है। गोरखपुर में ही रेलवे पुल के पास मिट्टी बैठ गई है। इस कारण गोरखपुर-बढ़नी रूट पर ट्रेनों का संचालन बंद कर दिया गया है।

rapti river

गोरखपुर में खनहा बांध टूटने से रोहिन का पानी शहर के उत्तरी इलाके राजेंद्रनगर पश्चिमी से बरगदवा होते हुए कालोनियों में पहुंच गया। राप्ती का पानी बढ़ता ही जा रहा है। वह एक सेंटीमीटर प्रति घण्टे की रफ्तार से बढ़ रही है। इससे लोगों की चिंता और डर और बढ़ रहा है। शनिवार पूरी रात लोगों ने तरह-तरह की आशंकाओं के बीच काटी।

Related image

चौरीचौरा क्षेत्र में नई बाजार में भी बांध कट गया है। कई गांवों में पानी घुसने से परेशानी बढ़ती जा रही है। कसिहार के पास बंधे में रिसाव होने के कारण बड़ी गाड़ियों की आवाजाही रोक दी गई है। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए वाराणसी और लखीमपुर से 20 नावें और स्टीमर मंगाए गए हैं। एनडीआरएफ के 30 और जवान गोरखपुर पहुंच चुके हैं। प्रशासन ने आसपास के अन्य जिलों से भी मदद मांगी है। रेलवे ने गोरखपुर से जगतबेला तक ऐतिहातन पेट्रोलिंग शुरू करा दी है।



गोरखपुर में राप्ती नदी के किनारे बना गाहासाड़ उत्तरी कोलिया बांध सुबह 5 बजे मंझरिया गांव के सामने कट गया है। इससे दस गांवों की आबादी बुरी तरह प्रभावित है। घुनघुन , मंझरिया , उतरासोत , टिकरिया , गोविन्दपुर मझिगावा , बेला , जमुआड़ ,खरबुजहवा और मोहम्मदपुर सहित कई गांवों में पानी भर रहा है।

हालांकि प्रशासन का दावा है कि स्थिति को जल्द ही कंट्रोल कर लिया जाएगा। बात दें कि नौसड़ बांध से शुक्रवार से ही रिसाव हो रहा था। गोरखपुर से लखनऊ जाने वालों को बाघागाड़ा होकर फोरलेन के रास्ते आना जाना पड़ रहा था। नौसड़ में बालू की बोरियों और अन्य उपायों से पानी रोकने की सभी कोशिशें बेकार हो रही हैं।
गोरखपुर बाढ़, योगी आदित्यनाथ, ने यूपी बाढ़ पीड़ितों को भोजन सामिग्री दिया और राहत के लिए अलर्ट किया ..!


Image result for flood in gorakhpur

Related image
What do you say ?

Post a Comment

About Author

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.